Showing posts with label दहेज दरखास्त हिन्दी मे (2). Show all posts
Showing posts with label दहेज दरखास्त हिन्दी मे (2). Show all posts

17 May 2021

दहेज की दरखास्त राजीनामा करने बाद

सेवा में,

                     श्रीमान महिला सेल इंचार्ज

        

विषय:- दरखास्त बराए किये जाने कानूनी कार्यवाही बर खिलाफ दोषीगण ____________________सभी निवासी ______________________|

 

श्रीमान जी,

  प्रार्थीया निम्नलिखित निवेदन करती है कि:-

1-  यह है कि मैं प्रार्थीया ________________निवासी _____________ की रहने वाली हूँ और मेरी शादी दिनांक 27-11-2015 को हिन्दू रीति रिवाज के अनुसार ______________ के साथ सम्पन्न हुई थी |

2-  यह है कि मेरे माता पिता ने अपनी हेसियत से ज्यादा दान दहेज देकर मेरी शादी की थी और मेरी इस शादी मे करीब 5 लाख रुपए का दान दहेज दिया था |

3-  यह है कि मेरे पति, जेठ, जेठानी, सास सयुंक्त परिवार मे एक साथ रहते है तथा सारा दान दहेज का सामान मेरे माता पिता ने उन सभी दोषीगण को दिया था |

4-  यह है कि शादी से ही मेरे ससुराल वाले दान दहेज से खुश ना थे तथा ये सभी मिलकर और दहेज लाने की मांग करते थे | अब 50 हजार रुपए नगद व मोटर साइकल की मांग करते है और मेरे से गाली गलोंच व मारपीट करते है |

5-  यह है कि यह शादी बिचौलिया _________ने कराई थी जिसमे इन लोगो ने मुझे व मेरे माता पिता को धोखे मे रखकर यह शादी कराई थी | जिसमे इन लोगो ने आपराधिक षड्यंत्र रचकर बताया की लड़का बी0 ए0 पास है तथा एक प्राइवेट कंपनी मे नौकरी कर रहा है | मेरा जेठ _______ सारा दिन शराब पीता रहता है, विष्णु पुत्र किशोरीलाल जो मेरा नंदोई है ने 50 हजार रुपए नगद मेरे माता पिता से लिए और कहा कि हम अपने आप मोटर साइकल खरीद लेंगे और उसने ये सारे पैसे अपने पास रख लिए तथा अब वह कहता है कि मोटर साइकल के लिए और रुपए मांग लो |

6-  यह है कि दिनांक _______को समय सुबह 7 बजे इन सभी लोगो ने मेरे पति व जेठ जेठानी ने मिलकर मेरे साथ गाली गलोंच की तथा कहा कि 50 हजार रुपए व मोटर साइकल कल लेकर आ तथा इन्होने मुझे घर से बाहर निकाल दिया और फिर मैं बस द्वारा अपने माता पिता के पास अपने मायके ______ मे आ गई | दोषीगण दहेज के लालची है और दहेज के लालच मे कोई अनहोनी घटना घटा सकते है | इसलिए मैं इन दहेज के लालचियों के खिलाफ सख्त से सख्त कानूनी कार्यवाही करना चाहती हूँ | उक्त लोगो ने मेरे सभी स्त्रीधन व दहेज सामान को अपने पास रख लिया है और वो उनका प्रयोग करके दुरुपयोग कर रहे है |

7-  यह है कि इस बाबत मैंने एक दरखास्त न0 ______दिनांक ______को उपरोक्त दोषीगणो के खिलाफ दी थी जिसमे महिला सेल ______ के दफ्तर मे दोषीगणो को भी बुलाया गया था तब दोषीगणो ने पुलिस व अन्य पंचो के सामने दहेज ना लेने की बात कही थी और मेरे साथ घर बसाने के लिए उस दरखास्त पर दिनांक _________को लिखित मे राजीनामा कर लिया था लेकिन कुछ दिन बाद  दोषीगण राजीनामा के बावजूद दहेज के बिना मेरा घर बसाने को तैयार नहीं हुये | मेरा पिताजी गाँव से कुछ मौजीज व्यक्तियों को लेकर मेरी ससुराल कई बार गया तथा दोषीगणो के सामने हाथ जोड़कर मेरा घर बसाने की विनती की लेकिन दोषीगण अपने दहेज कि नाजायज मांग पर अड़े रहे और मेरे पिताजी से कहा कि जब तक हमे दहेज मे मोटर साइकल व 50,000/- रुपए नहीं दोगे हम तुहारी लड़की को अपने घर मे नहीं रखेंगे और मेरे पिताजी व उसके साथ गए व्यक्तियों को अपने घर से बेज्जत कर के भगा दिया | इसके बाद भी मेरे पिताजी ने दोषीगणो से फोन पर भी कई बार बाते की लेकिन उपरोक्त दोषीगण अपनी दहेज की नाजायज मांग पर अड़े हुये है | दोषीगण फोन के द्वारा मुझसे व मेरे पिताजी से दहेज की मांग करते रहते है जिससे उपरोक्त दोषीगण मुझे व मेरे माता पिता को मानसिक रूप से परेशान करते रहते है |

        अत: श्रीमान जी से प्रार्थना है कि दोषीगणो के खिलाफ सख्त से सख्त कानूनी कार्यवाही कर के मुझ प्रार्थीया को न्याय दिलाया जाए और मेरी जान व माल की सुरक्षा कराई जाए | जनाब की बड़ी मेहरबानी होगी |

दिनांक :-                                           प्रार्थीया

 

  

11 May 2021

हिन्दी मे दहेज की दरखास्त कैसे लिखे

हिन्दी मे दहेज की दरखास्त कैसे लिखे | हिन्दू विवाह | Hindi me dahej ki darkhast kaise likhe | Complaint U/s 498-A IPC in Hindi | Dowry complaint Hindi || 


सेवा मे,

            श्रीमान एस0 एच0 ओ0 साहब

            थाना 

विषय :- दरखास्त बराये किए जाने कानूनी कार्यवाही बरखिलाफ दोषीगण 1- (यहाँ सभी दोषीगण/ससुराल पक्ष के लोगो का नाम व पता लिखे) बाबत प्रार्थीया से  नाजायज दहेज की मांग करने, मारपीट करने, अमानत मे खयानत करने व जान से मारने की धमकी देने बारे |

 

     श्रीमान जी,

            निवेदन है कि मैं प्रार्थीया (शिकायतकर्ता का  नाम व पता लिखे) वाली हूँ | यह कि मेरी शादी दिनांक 06-01-2021 को दोषी न0 1 (लड़के का नाम व पता लिखे) के साथ हिन्दू रीति रिवाज के अनुसार दोनों पक्षो के सगे सम्बन्धियो व रिश्तेदारों की मौजूदगी मे हुई थी | जो कि मेरी शादी मे मेरे माता-पिता ने अपनी हेसियत से भी अधिक खर्च कर उपरोक्त दोषीगण को काफी दान दहेज दिया था | जो कि मेरी शादी मे मेरे माता-पिता ने 21,000/- रुपए नगद, आधा किलो चाँदी के जेवरात जिनमे पाँव के पाजेब, सेंपल, कंगन, हथफूल आदि थे और एक 5 ग्राम सोने का ओम तथा इसके अलावा घर का सारा सामान सिंगल बेड, कुर्सी, मेज, फ्रीज़, कूलर, एलईडी टीवी, पंखा, 251 बर्तन, सिलाई मशीन, वाशिग मशीन, मधानी, अलमारी, घड़ी, सन्दूक, 21 जोड़ी कपड़े दिये थे|

यह कि उपरोक्त दोषीगण (सभी दोषीगण का नाम व पता लिखे) बहुत ही लालची किस्म के लोग है जो मेरे माता-पिता के द्वारा द्वारा दिये गए दान दहेज से खुश ना हुये और मुझे शादी के दिन से ही कम दहेज लाने का ताना देते थे और कहते थे कि तुमने हमे शादी मे कुछ नहीं दिया जबकि हमको शादी मे एक मोटरसाइकिल व 50,000/- रुपए नगद मिलने की उम्मीद थी इसलिये तुझे अब हमारे घर मे रहना है तो अपने मायके वालो से हमे एक मोटर साइकिल व 50,000/- रुपए नगद दिलाने पड़ेंगे तभी हम तुझे अपने घर मे रखेंगे | मैंने उपरोक्त दोषीगण की मांग के बारे मे अपने माता पिता को बताया तो मेरे माता पिता ने कहा की अभी नई नई शादी हुई है थोड़े दिनों बाद सब कुछ ठीक हो जाएगा और मैं अपने ससुराल आती जाती रही लेकिन उपरोक्त दोषीगण मुझे दहेज की मांग के चलते हुये शारीरिक व मानसिक रूप से प्रताड़ित करते रहे |

यह है कि दिनांक 21-04-2021 को समय करीब दोपहर के 3:30 बजे मैं अपने ससुराल मे थी जो सभी दोषीगण ने एक सोची समझी साजिश के तहत मुझसे दहेज की मांग पुरी करने के लिए कहा जिस पर मैंने कहा की मेरे माँ-बाप गरीब आदमी है आपकी इस मांग को पूरा नहीं कर सकते है तो इसी बात पर उपरोक्त सभी दोषीगण ने आपस मे साज बाज होकर मुझे बुरी तरह से मारा पीटा | जो मेरे पति _______ ने मुझे लात घुसो से मारा पीटा तथा मेरी भुआ सास _____________ ने एक डंडा मेरे माथे पर मारा तथा जेठानी ________ ने कई लात मेरे पेट पर मारी तथा मेरी सास ____________ने भी मुझे थप्पड़ मुक्को से मारा तथा मेरे सारे सोने चाँदी के जेवरात छीनकर अपने कब्जे मे ले लिए | इसके अलावा मुझे अन्य दोषीगण ______________________ ने भी मारा पीटा और सभी दोषीगण ने एक लहजे मे कहा कि इसे अब हम इस घर मे नहीं रखेंगे और फिर मुझे धक्के मारकर अपने घर से बाहर निकाल दिया और मुझे धमकी दी की आज के बाद तू हमारे घर मे आई तो तुझे जान से खत्म कर देंगे | मैं जैसे तैसे अपने मायके पहुंची और सारी बाते अपने माता पिता को बताई | जो कि मुझे मेरा पिताजी इलाज के लिए सरकारी अस्पताल _________ लेकर गया जहां पर डॉक्टर साहब ने मेरा इलाज किया व एमएलआर काटी जो दरखास्त के साथ लफ है |

यह है कि मेरे परिवार वाले मेरे वैवाहिक जीवन को देखते हुये दोषीगण के घर मे कई बार पंचायत लेकर गए और दोषीगण को समझाया बुझाया और मुझे बिना दहेज के अपने घर मे रखने के लिए कहा लेकिन दोषीगण ने मुझे बिना दहेज के अपने घर मे रखने से साफ मना कर दिया और पंचायत को बेज्जत करके भगा दिया |

            इसलिए जनाब से गुजारिश है कि उपरोक्त सभी दोषीगणों के खिलाफ मेरे साथ मारपीट करने, अनुचित दहेज की मांग करने, अमानत मे खयानत करने व जान से मारने की धमकी देने बाबत कानूनी कार्यवाही की जाए | जनाब की अति कृपा होगी |

      दिनांक :-

 प्रार्थीया

शिकायतकर्ता का नाम व पता व मोबाइल न0 लिखे | 



नोट : अगर आपके द्वारा दी गई दरखास्त पर स्थानीय पुलिस कोई कार्यवाही नहीं करती है तो आप अपनी इस दरखास्त को एस0 पी0 ऑफिस या महिला सेल मे दे सकते है |